X Close
X

अमेरिकी हमले में अलकायदा कमांडर आसिम उमर ढेर, भारत के लिए था बड़ा खतरा


al-qaida09102019121508
अमेरिका और अफगानिस्तान के सुरक्षा बलों ने एक संयुक्त अभियान में अल कायदा की दक्षिण एशिया शाखा के सरगना को पिछले महीने ढेर कर दिया है. काबुलः अफगान अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की है.

अल कायदा इन इंडियन सबकॉन्टिनेंट (एक्यूआईएस) का गठन 2014 में हुआ था और तभी से आसिम उमर इसका सरगना था. सुरक्षा बलों ने हेलमंद प्रांत के मूसा कला जिले में 23 सितंबर को तालिबान के एक परिसर पर छापा मारा था. उस छापेमारी में एक्यूआईएस का सरगना उमर मारा गया.

अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशालय (एनडीएस) ने ट्विटर पर बताया कि उमर पाकिस्तानी नागरिक था, लेकिन इस तरह का दावा करने वाली कुछ रिपोर्टें थी कि वह भारत में पैदा हुआ था.

90 के दशक में छोड़ा था घर

भारतीय खुफिया एजेंसियों की जांच में यह सामने आया था कि मौलाना आसिम उमर भारत का ही रहने वाला है. वह उत्तर प्रदेश के संभल जिले का रहने वाला है. सनाउल 90 के दशक में घर से गायब हो गया था. बाद में उसके पाकिस्तान में होने की जानकारी मिली थी. 2016 में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने रॉ के साथ मिलकर भारत में मौजूद अल कायदा के कई आतंकियों को पकड़ा था. उनसे पूछताछ में भी इसकी पुष्टि हुई थी कि आसिम उमर उत्तर प्रदेश के संभल का रहने वाला सनाउल ही है.

2016 में अमेरिका ने ग्लोबल टेररिस्ट लिस्ट में किया था शामिल

अमेरिका पर 9/11 हमले के बाद अल कायदा की एक डॉक्युमेंट्री में भी वह ओसामा बिन लादेन के साथ नजर आया था. अमेरिका ने 2016 में उसे ग्लोबल टेररिस्ट लिस्ट में शामिल किया था. मौलाना उमर ने हाल के कुछ सालों में भारत में जिहाद फैलाने के लिए कई वीडियो भी जारी किए थे. इन वीडियो में वह भारतीय जांच एजेंसियों और पुलिस पर हमले के लिए उकसाते नजर आया था.

गिरफ्तार हुई थी उमर की पाकिस्तानी पत्नी

गौरतलब है कि 24 सितंबर को अफगानिस्तान और अमेरिका की सेना ने मूसा काला के एक कंपाउंड में मौलाना उमर की मौजूदगी की सूचना पर संयुक्त ऑपरेशन चलाया था. उमर को टारगेट कर चलाए गए इस अभियान में उमर के बच निकलने की खबर आई थी, लेकिन उसकी पाकिस्तान निवासी पत्नी समेत 6 पाकिस्तानी महिलाओं को गिरफ्तार किया गया था. (NEWSVIEW MEDIA NETWORK)