X Close
X

बिना पद के भी पांच वर्ष से अजमेर देहात भाजपा के जिला अध्यक्ष की भूमिका उत्साह के साथ निभा रहे हैं प्रो. सारस्वत। गनी भाई भी हुए 74 वर्ष के।


14_maySM_2019_006-237x300
Ajmer: (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); बिना पद के भी पांच वर्ष से अजमेर देहात भाजपा के जिला अध्यक्ष की भूमिका उत्साह के साथ निभा रहे हैं प्रो. सारस्वत। गनी भाई भी हुए 74 वर्ष के। ============  14 मई को सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेट फार्मों पर अजमेर देहात भाजपा के अध्यक्ष प्रो. बीपी सारस्वत छाए रहे। सारस्वत को जन्म दिन की बधाई देने वालों का तांता लगा रही। सभी लोग सारस्वत के उत्साह की प्रशंसा करते दिखे। असल में सारस्वत गत पांच वर्षों से देहात भाजपा के जिला अध्यक्ष हैं। लेकिन उन्हें कभी भी विधायक अथवा सांसद का चुनाव लडऩे का अवसर नहीं मिला। न ही उन्हें भाजपा नेता के नाते कोई सरकारी पद हासिल हुआ। हाल ही के लोकसभा चुनाव में सारस्वत ने पूरी ताकत लगा कर टिकिट की मांग की थी, लेकिन सफल नहीं हो सके। चार माह पहले हुए विधानसभा चुनाव में भी सारस्वत का नाम नसीराबाद और ब्यावर विधानसभा क्षेत्र से चला लेकिन सारस्वत टिकिट हासिल करने में सफल नहीं हुए। जबकि सारस्वत को पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का संरक्षण रहा। राजे की वजह से ही सारस्वत को देहात का जिला अध्यक्ष बनाया गया। लेकिन अच्छे संबंध होने के बाद भी राजे ने सारस्वत को किसी सरकारी पद पर नहीं बैठाया। हालांकि सारस्वत एमडीएस यूनिवर्सिटी में वाणिज्य संकाय के अध्यक्ष हैं। सारस्वत की वजह से ही राज्य सरकार ने यूनिवर्सिटी को पीटीईटी जैसी राज्यस्तरीय परीक्षाएं कराने की जिम्मेदारी दी। सारस्वत ने राजनीति के साथ साथ यूनिवर्सिटी में भी सक्रियता के साथ काम किया। लोकसभा चुनाव में टिकिट नहीं मिलने के बाद भी सारस्वत ने भाजपा प्रत्याशी के प्रचार में कोई कमी नहीं छोड़ी। ऐसा बहुत कम होता है जब सांसद विधायक या अन्य कोईसरकारी पद नहीं मिलने के बाद भी कोई नेता उत्साह के साथ राजनीति करता रहे। मोबाइल नम्बर 9414007655 पर सारस्वत को जन्म दिन की बधाई दी जा सकती है। गनी भाई भी 74 वर्ष के हुए: अजमेर स्थित सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह के प्रमुख खादिम सैय्यद अब्दुल गनी गुर्देजी ने भी 14 मई को अपना 74वां जन्म दिन उत्साह के साथ मनाया। गुर्देजी दरगाह में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी परिवार के पारिवारिक खादिम हैं। राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट के खादिम भी गुर्देजी भी हैं। वीआईपी मेहमान के खादिम होने के बावजूद गुर्देजी सादगीपूर्ण तरीके से जीवन व्यतीत करते हैं। गुर्देजी सामाजिक कार्यों में भी सक्रिय रहते हैं। सिंधी समुदाय के चेटीचंड के जुलूस के अवसर पर दरगाह के बाहर करीब एक हजार सिंधियों के सिर पर पगड़ी बांधते हैं। इसे एक संयोग ही कहा जाएगा कि गुर्देजी की 14 मई को शादी की पचासवीं सालगिरह भी परिजन ने मनाई। मोबाइल नम्बर 9829071897 पर गुर्देजी को मुबारक बाद दी जा सकती है। एस.पी.मित्तल) (14-05-19) (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); Newsview.in - Hindi News.